Written way back in 1997

हौसला 

बदल  सके  तू  रुख़ हवा  का, येह  तेरे  बस  में  नहीं

हसरत-ऐ-परवाज़  हो, तो  कोई  मंज़िल  मुश्किल  नहीं

कुछ  दरख़्त  हैं  जिनकी  छाओं का, ग़ुलाम  हर  मुसाफिर यहाँ 

ग़र पखेरू हो सके,  है नहीं हवाओं  की  कमी 

 

बस  में नहीं  तक़दीर,  तेरी  बात  सच  है येह  मगर

सिर्फ़ किस्मत  के  सहारे  मिल  जातीं  मंज़िलें  अगर 

मिसाल  दी न जाती  कभी  संसार  में कर्मवीर  की 

और  तदबीर  के  बिना  सब  पूरा  कर  लेते  सफ़र 

 

लेकिन  बना  इतिहास  उनकी  हिम्मत  पर  जिन्हें 

रोक  ना पाया  कोई जब  ठान  ली  की  चल  सकें 

जिस  रस्ते  पर  चलने  की खाई  थी  इक  दिन  क़सम

हों  मुश्किलें  मुस्तक़िल  डगमगाएं  गे  ना कदम 

 

तो  दे  दे  चुनौती  तूफ़ान  को , केह  दे दिखा  अपनी  ज़िद  मुझे 

थाम  ले  आसमां  को, जो  डराता  की  बिजली   गिरे 

चीर  जिगर  पहाड़  का, खुद  काट  अपना  रास्ता 

और  आग  से  भी  खेल कर, धूल  चटा दे ख़ाक  को 

 

ग़र  कभी  येह  डर  लगे,  की सामने  मुक़द्दर  खड़ा 

याद  रख  बदकिस्मती  का साया,  कर्महीनों  पर पड़ा 

ढूँढते आसानियों  की  छाओं  उनके  लिए  नहीं 

येह सब  लिखा  मैनें  जो  तूनें  आज  मुझसे  है  सुना 

 

याद  रख जो  बेबसी  की देता  दलीलें   बार  बार 

सच  हो जाती  हैं कमज़ोरियाँ उसकी,  येह बात सार 

हमदर्द  होते  हैं,  दोस्त  होते नहीं बलहीन  के 

और  भीड़  मैं  जो हो अकेला  उसके  हमसफ़र  हज़ार 

 

खुद  को  बस  में  कर , बस  इतना  ही  काफ़ी  है अभी 

मत  फ़िक्र  कर,  ढून्ढ  लेंगे  लोग  अपने  रस्ते  भी 

डर  है  तुझको  छोड़  देंगे,  साथ  तेरा  वोह  जिन्हें, 

तू  साथ  लेकर  आया   नहीं,  क्या  साथ   जायेंगे  कभी 

 

इस सफ़र  में  आज़ाद  होना  मुक्त  होना  है  लाज़मी 

आज़ाद  हैं  वोह जो,  आज़ाद  कर सकें  औरों  को  ही नहीं,  अपनों  को  भी 

मुक्त  हो  ना  सकेंगे  वोह,  जो आज़ादी  की  चाह  में 

जकड़  कर  रखे  हुए हैं चाहतें  संसार  की 

 

है  येह  मुमकिन  पा  ना  सकेगा  वोह  सब  जिसका  अरमान  था 

हार  जीत  मन  में  तेरे  येह  तुझसे  पेहले  भी  कहा 

ग़र समझ  ले  रस्ते  पर चलनें  का  तरीका  सही 

हिम्मत  तेरी  कायम  रहेगी  और  बना  रहेगा   हौसला 

 

आशुतोष १९९७

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: